Thursday, January 28, 2010

क्षणिका-5

नाखून काटने का 
सलीका पूछते हैं
जिंदगी बिता दी
जिन्होंने 
गला रेतते।

1 comment: